प्यार करना है तो वतन से करो!!

Happy 26 January Republic Day Shayari in Hindi Images
Happy 26 January Republic Day Shayari in Hindi Images

तैरना है तो समंदर में तैरो,
नदी नालों में क्या रखा है!
प्यार करना है तो वतन से करो,
इन बेवफा लोगों में क्या रखा है!

Tairna Hai To Samundar Mein Tairo,
Nadi Nalon Main Kya Rakkha Hai,
Pyar Karna Hai To Watan Se Karo,
in Bewafa Logo Mein Kya Rakkha Hai!
!! Happy Republic Day!!


“Independence day” and “Republic day”
should not be the only days
where we should talk about the Nation.
Instead, for rest of the days we should work in the national
interest and celebrate our contribution
towards nation on these two days.


वतन के वास्ते वो सर कटाना याद है,
याद है झाँसी की रानी का ज़माना याद है।
अंग्रेजों के ज़ुल्म से कोंन वाकिफ़ नहीं,
ग़ुलामी की ज़ंजीरों में जकडा जाना याद है।
वो भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव का,
हंसते- हंसते सूली पे चढ़ जाना याद है।
खाने को सूखी रोटियां या फ़िर
भूखे रहकर फ़ौजियों का सर कटाना याद है।
आओ करें उनको नमन और दें श्रधांजली,
भूले नहीं हैं आज भी वो ज़माना याद है।


🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳
इस धरती में ऐसे फ़ौलाद जन्म लेते हैं
ग़ुलाम भारत में भी आज़ाद जन्म लेते हैं
हर बालक में क्षमता है, पूरा इतिहास बदलने की
यहाँ हिरण्यकश्यप के घर भी प्रह्लाद जन्म लेते हैं
🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳


ये शान है, ये मान है, वतन का ये सम्मान है,
चले वतन इसी से है, यही मेरा अभिमान है,
ये मेरा संविधान है।

उद्देशिका का मंत्र है, लोकतंत्र ये गणतंत्र है,
न्याय की ये नीति है, सम्पन्नता की रीति है।
अखंडता इसी से है, यही निरपेक्षता का मान है,
ये मेरा संविधान है।।

कानून की दलील है, स्वतंत्रता का ये मील है,
कर्तव्य है, अधिकार है, विचारों का अंबार है।
स्वराज भी इसी से है, इसी से वतन महान है,
ये मेरा संविधान है।।

पर तंग है, पर नंग है, वतन भी खंड खंड है
संविधान के ही पन्नों पे, लिपटा क्यों प्रसंग है?
समता की भी हार ये, यही एकता की शान है,
ये मेरा संविधान है!


तामीर करी थी जिसकी उन पाँच रंगों से,
हिफ़ाज़त मे उसकी, भिड़ गए उन दरिंदो से।
लहराना जिसका दिल को छू जाता है,
लहराना ऐसा कि गर्व करवा जाता है, मुस्कान दे जाता है।
करता है वो हिफ़ाज़त तुम्हारी 365 दिन,
नही है वो 2 दिन का खुदगर्ज़।।


दुश्मन की हस्ती को हम,
वीरानों में बदल देंगे,
भारत माता को हम,
दुलहन जैसे सजा देंगे ।
🇮🇳🇮🇳


खूबसूरत झांकियों की खोखली काया थी ,
परेड़ गणतंत्र की थी , लेकिन स्वार्थ की छाया थी ।
नफ़रत के सामानों की नुमाइश थी ,
अवाम की आखों मैं फिर भी गुंजाइश थी ।
हाथी , घोड़े , राजा , प्यादे और जी हजूरी थी ,
बस संविधान और उसे बनाने वाले की कमी थी ।


If you are gonna let that flag remain on ground tomorrow,
You don’t deserve to hold it today.
If you are gonna laugh about my India today,
You don’t deserve to call yourself patriotic.
If you stood for the national anthem when someone told you to,
You don’t deserve to be an INDIAN citizen.
Please don’t be patriotic to show off,
Be patriotic coz you want to.


बीत रहा एक और गणतंत्र
आशा का सूरज थामे
नवयुवक की शुरुआत सुबह
जो जो लिखे वो जाने
बस याद रहे हर बलिदान
हिंद को जो अपना माने✍️🌠


अब जो कुर्सी पे बैठे हैं, कहते हैं
तुम मुझे वोट दो, मैं तुम्हें आज़ादी दूंगा
फिर जकड़ते हैं
जाति सम्प्रदाय धर्म में
केवल स्वयं के मर्म में
ना कि स्वदेश प्रेम में
हम ‘गण’ ‘तंत्र’ बनाते हैं
बस छुट्टी मानते हैं
सरकारी इमारतों की चाकाचौंध देख
टिक्की-बताशे खाते हैं
फिर दोने सड़क पे फेक आते हैं
हर सरकार को गरियाते हैं
कभी लैपटॉप कभी बेरोजगारी भत्ता
कभी फ्री वाई फाई कभी कर्ज माफ़ी
में फंस जाते हैं
हम वोट देते जाते हैं
वो जेबें भरते जाते हैं
और फिर हम ‘गण’
‘गणतंत्र’ भूल जाते हैं


let us take an oath to
take each step which
makes our country prosperous
more and more where each citizen
feels safe and grow….


हमको भी कदम आगे बढ़ाना है
मंगल तक तो कबका पहुच चुके
अब तो सूरज से भी आँखे मिलना है
नया भारत बनाना है।
बहुत घूर चुके दुनिया वाले
हमे तो अब नज़र से नज़र मिलना है
गीता के ज्ञान पर जो हँसे
उन्हें थोड़ा और सीखना है
नया भारत बनाना है।
हम भी किसी से कम नही
अब तो सबको दिखाना है
जो देख कर जलते है कामयाबी हमारी
उन्हें थोड़ा और जलाना है
इस बार तो सरहद के पार भी
‘भारत माता की जय’ कहलाना है
क्योंकि अब- नया भारत बनाना है।


भारत माता की आन, रहे
और गणतंत्र दिवस सदा
मनता रहें, इसकी आन,
कभी न जाए, चाहें हमारी
जान हीं जाएं और हम हमेशा
यही है गाएं जय हिन्द जय भारत।‌।


किसी ने पूछा आज के दिन कैसे लोग
देश को छोर किसी और चीजों को याद करते हैं
.
.
हमने बोला जैसे
आपलोग सिर्फ साल में दो बार देश को याद करते हैं
#REPUBLIC_DAY


तेरे शीने को छेदने वाली गोली,
रो रो कर अपनी मजबूरीया बयान कर रहे होंगे।
कहीं किसी जोबन के दामन का रंग ना फीका पड़ जाये,
बस यही सोचकर दुश्मनों के भी हाथ कांप रहे होंगे।


About Auther:

We provide Love, Friendship, Inspiration, Poems, Shayari, SMS, Wallpapers, Image Quotes in Hindi and English. if you have this type of content you can email us at anmolvachan.in@gmail.com to get publish here.



Click here to Follow on Instagram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

four × 1 =

Top