× Covid-19 Alert! Keep the peace, If you want to live longer. Support the nation with A 21-day isolation.
Stay Home, Stay Safe, Stay healthy

Coronavirus COVID-19 Quotes Status in Hindi

Coronavirus Quotes in Hindi COVID-19 Status in Hindi WIth Images for Facebook, Whatsapp Status Update

Coronavirus Quotes in Hindi
Coronavirus Quotes in Hindi

एक चींटी से भी छोटा कोरोना वायरस हमारे अपनों को मार रहा है
एक संकल्प कोरोना वायरस को हम मिलके ख़तम करेंगें..
जय हिन्द


Coronavirus Quotes in Hindi for Kids
Coronavirus Quotes in Hindi for Kids

मां जाने ना दे घर से बाहर,
हो गया हूं कमरों में कैद,
कैसे खेलू मै यारो के साथ,
कोरोना तेरे कारण,
विद्यालय भी हुए बंद।


Coronavirus COVID-19 Quotes Status in Hindi
Coronavirus COVID-19 Quotes Status in Hindi

मत पूछो अभी खैरियत हमारी.
अपना चेहरा ढक के रखना
बड़ी खतरनाक है कोरोनावायरस की बीमारी।


कोरोना, कोरोना, कोरोना
है ये एक नयी बीमारी
फैला रही है जो दहशत
न है इलाज इसका
न रोक सकते है इसको
करें तो क्या करें
सरकार को चिंता
बच्चों को मस्ती
और तनाव में टोली शिक्षकों की


हे कोरोना
भेद भाव करो ना
इरान में मंत्री को ले बैठे
हमारे यहाँ छोड़ो ना
हे कोरोना
ग़रीब गुरबे तो ग़ुरबत में ही जीते
कभी चिमकी बुखार से मरते
तो कभी दंगों से
उन्हें ख़ौफ़ में रखो ना
हे कोरोना


COVID-19 Coronavirus Quotes in Hindi
COVID-19 Coronavirus Quotes in Hindi

जहाँ जीव-जंतुओं से प्यार है,
वहाँ कोरोना की लगभग हार है।


अब समझ आया पूर्वजों के समय में…
1. शौचालय और स्नानघर निवास स्थान के बाहर होते थे।
2. क्यों बाल कटवाने के बाद या किसी के दाह संस्कार से वापस घर आने पर बाहर ही स्नान करना होता था बिना किसी व्यक्ति या समान को हाथ लगाए हुए।
3. क्यों पैरो की चप्पल या जूते घर के बाहर उतारा जाता था, घर के अंदर लेना निषेध था।
4. क्यों घर के बाहर पानी रखा जाता था और कही से भी घर वापस आने पर हाथ पैर धोने के बाद अंदर प्रवेश मिलता था।
5. क्यों जन्म या मृत्यु के बाद घरवालों को 10 या 13 दिनों तक सामाजिक कार्यों से दूर रहना होता था।
6. क्यों किसी घर में मृत्यु होने पर भोजन नहीं बनता था ।
7. क्यों मृत व्यक्ति और दाह संस्कार करने वाले व्यक्ति के वस्त्र शमशान में त्याग देना पड़ता था।
8. क्यों भोजन बनाने से पहले स्नान करना जरूरी था और कोसे के गीले कपड़े पहने जाते थे।
9 क्यों स्नान के पश्चात किसी अशुद्ध वस्तु या व्यक्ति के संपर्क से बचा जाता था।
10. क्यों प्रातःकाल स्नान कर घर में अगरबत्ती, कपूर, धूप एवम घंटी और शंख बजा कर पूजा की जाती थी।
हमने अपने पूर्वजों द्वारा स्थापित नियमों को ढकोसला समझ छोड़ दिया और पश्चिम का अंधा अनुसरण करने लगे।
आज कॉरोना वायरस ने हमें फिर से अपने संस्कारों की याद दिला दी है, उनका महत्व बताया है।
हिन्दू धर्म, ज्ञान और परंपरा हमेशा से समृद्ध रही है,
आज वक्त है अपनी आंखो पर पड़ी धूल झाड़ने और ये उच्च संस्कार अपने परिवार और बच्चो को देने का।


का एकमात्र कदम है
‘कोरोना’ से खिलवाड़ लोगों का भरम है


🙏 धमकी नहीं सावधानी 🙏
एक दिन अपने घर पर बैठे रहना …..
नहीं तो….
13 दिन तक लोग बैठने आएंगे!
एकांत is better than देहांत…😂😂
Choice is yours..😜


Corona नाम की इस भयानक बीमारी को हमारे देश मे फैलने से रोकें।
सरकार द्वारा दिये गए निर्देषों को हल्के में ना लेकर बड़ी ही गम्भीरता से उनका पालन करें।
सरकार द्वारा दिये गए निर्देशों का पालन कर के हम इस महामारी को मात दे सकते है।
सचेत, सावधान और सतर्क रहे कर हम सब एकजुटता के साथ,
हमारे भारत देश मे बढ़ने वाली इस महामारी को फैलने से रोक सकते है।
Social media पर इस महामारी के बारे में लोगों को जागरूक करें और अफवाहों को बढ़ावा न दे।
स्वस्थ रहेंगे हम तो स्वस्थ रहेगा भारत।
जय भारत 🇮🇳





About Auther:

We provide Love, Friendship, Inspiration, Poems, Shayari, SMS, Wallpapers, Image Quotes in Hindi and English.if you have this type of content you can email us at anmolvachan.in@gmail.com to get publish here.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *