पोथी पढ़ि पढ़ि जग मुआ, पंडित भया न कोय !!

Pothi Padh Padh Jag Mua Doha With Meaning in Hindi
Pothi Padh Padh Jag Mua Doha With Meaning in Hindi

पोथी पढ़ि पढ़ि जग मुआ, पंडित भया न कोय ।
ढाई आखर प्रेम का, पढ़े सो पंडित होय ।।
Pothi Padh Padh Jag Mua Pandit Bhaya Na Koi !
Dhai Aakhar Prem Ke, Jo Padhe so Pandit Hoye !!
अर्थात्ः- बड़ी बड़ी किताबे पढ़कर संसार में कितने ही लोग  मृत्यु के द्वार पहुंच गए, पर सभी विद्वान न हो सके। कबीर मानते हैं कि यदि कोई प्रेम या प्यार के केवल ढाई अक्षर ही अच्छी तरह पढ़ ले। अर्थात प्यार का वास्तविक रूप पहचान ले तो वही सच्चा ज्ञानी होगा।



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *