नारी की अस्मिता को लूटकर…

Nari Ki Asmita Ko Lootkar Kavita Quotes Status in Hindi
Nari Ki Asmita Ko Lootkar

हुआ था ईश्वर को भी बहुत बछतावा,
उन गिद्धों को क्‍यूँ मैंने मानव बनाया…

उसकी आवाज को भले ही दबाया था,
चीख-चीख कर बताया था उसकी अंतरात्‍मा ने उस राज को…

रौंदा था उसके शरीर को, पर घायल तो उसकी रूह हुई थी
न असर हुआ उन हैवानों पर जतरा भी…
जब वो बिलखती हुई सिसकियां भर रही थी…

शायद वो मर्द बन गये, उसके वस्‍त्र छीनकर
जो इंसान तक न बन पाए, नारी की अस्मिता को लूटकर…


Hua Tha Iswar Ko Bhi Bahut Pachtawa,
Un Giddho Ko Kyo Maine Manav Banaya…

Uski Awaj Ko Bhale He Dabaya Tha,
Chikh Chikh Kar Bataya Tha Uski Antaratma Ne Us Raaz Ko…

Rauda Tha Uske Sarir Ko, Par Ghayal To Uski Ruh Hui Thi,
Na Asar Hua Un Haiwano Par Jara Bhi…
Jab Wo Bilkhati Hui Siskiya Bhar Rahi Thi…

Shayad Wo Mard Ban Gaye, Uske Vastra Chinkar
Jo Insaan Tak Na Ban Paye, Nari Ki Asmita Ko Lootkar!