जिस व्‍यक्ति को आपके रिश्‍तों की कदर नहीं है!

Jis Viyakti Ko Aapke Rishton Ki Kadar Nahi Hai
Jis Viyakti Ko Aapke Rishton Ki Kadar Nahi Hai

जिस व्‍यक्ति को आपके
रिश्‍तों की कदर नहीं है
उसके साथ खड़े होने से
अकेले खड़े रहना अच्‍छा है
यह अभिमान नहीं स्‍वाभिमान है।

Jis Viyakti Ko Aapke Rishton Ki Kadar Nahi Hai
Uske Sath Khade Hone Se…
Akele Khade Rehna Accha Hai,
Yah Abhimaan Nahi Subhamin Hai!



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *